The UPSC Blog

Civil Services Exam, UPSC etc.

Archive for the ‘k k paul upsc poem’ tag

Funny poem on UPSC member Dr. K. K. Paul by a UPSC aspirant

without comments

A UPSC aspirant who identifies himself as Ek aur Cheelu on Orkut has written a Hindi poem on UPSC board member Dr. K. K. Paul. The poem describes the interview experience of the board and begrudges certain aspects of Mr. Paul’s personality. It’s a nice read. See link and image below for the original post where you can also read his interview experience.

late Edit: Cheelu is Vaibhav Rikhari, A BITS Pilani computer graduate. You can visit one of his blogs to read his interview experience.

AARTI..

जय जय पॉल जय जय पॉल ..
BLANK EXPRESSIONS मारते ..
न करते LOL
जय जय पॉल ..जय जय पॉल |

पॉल जब सामने आते हैं ..
बच्चे घबरा जाते हैं ..
करते फिर वो ना नुकुर ..
जैसे गली में भूला कुकुर |

पॉल पूछते अनाप शनाप ..
बच्चे बोलते सॉरी सरजी ..
I DON’T KNOW की करते PRACTICE ..
पॉल बोलते जाओ घरजी |

पॉल अंकल से विनती अपनी ..
गुंडे नहीं हम बच्चे हैं …
UPSC के लिए पढ़ते हैं सब ..
देखो कितने अच्छे हैं !

कुछ तो अच्छा चेहरा बनाओ …
थोडा सा तो अब मुस्कुराओ ..
और ये नहीं हो सकता है तो ..
बोर्ड में अच्छी गैंग बनाओ |

FACT FACT की गंगा में ..
बोलो हम अब कहाँ बहें ?
PRE MAINS तक ठीक था ..
INTERVIEW में भी सहें !

सब बच्चों की विनती ये है ..
सबको अच्छे नंबर देना ..
नाव मझधार में लटकी है ..
पतवार चलाकर उसको खेना |

चीलू पॉल चालीसा लिखेगा ..
दारु की दूकान पर नहीं दिखेगा ..
जो फिर भी खुश ना हो आप ..
तो चीलू आपका व्रत रखेगा |

बोलो जय जय पॉल बाबा …जय जय पॉल बाबा |

Click here to visit the online discussion and see the image below and click on it to enlarge.

orkut - cheelu ka interview_1302694413808

Written by upsc aspirants

April 13th, 2011 at 5:06 pm